July 13, 2010

छत की बातें

,
मैं सबसे ज्यादा बैंगलोर में जो मिस करता हूँ वो है घर की छत पर बीती शाम.अब बैंगलोर में जहाँ मैं रहता हूँ उधर वैसी कोई जगह है नहीं जहाँ छत का आनंद आ सके. हमारे एक सीनिअर दोस्त ने कुछ दिन पहले अपना घर चेंज किया, तो इस सन्डे उन्ही के घर पे शाम बिताई..जब पता चला की ऊपर छत भी अपनी ही है, यानी कोई रोक टोक नहीं है छत पे जाने की तो मन मचल उठा छत पे जाने के लिए. सन्डे का दिन था, तय ये हुआ था की शाम को कहीं बाहर घूमने जायेंगे..लेकिन जब पता चला छत की बात तो फिर कहाँ घूमने का दिल करेगा..मैंने भी अपने दोस्त को कहा की चलिए सर,छत पे ही आज की शाम बिताई जाए..घूमना फिरना तो होते रहेगा..इसी बहाने बीते दिन की कुछ याद भी ताजा हो जायेगी.

पटना में नानी के घर पे छत का मजा आता था..गर्मी के दिनों में जब लाईट अक्सर शाम में कटी रहती थी तो पूरा परिवार या तो छत पे रहता था या फिर बाहर बारामदे में..हम बच्चे छत पे ही क्रिकेट,कितकित खेलते रहते थे(हंसिये मत ये सुन के की मैं भी कित-कित खेलता था,वैसे तो ये लड़कियों वाला खेल है लेकिन मैं भी खूब खेलता था :P )..उस समय ना तो केबल चैनल का किसी को शौक था और ना ही जिंदगी में उस दर्जे की व्यस्तता थी...शाम का नाश्ता से लेकर चाय पानी तक छत पे होता था..फिर अगर रात में लाईट चली गयी तो सोना भी छत पे ही होता था..गर्मी के दिनों में छत पे सोने से अच्छा अनुभव कुछ और नहीं..ठंडी हवा चलते रहती थी और नींद भी मस्त आती थी..सुबह नींद भी जल्दी टूट जाती थी और बड़ा फ्रेश फ्रेश जैसा महसूस होता था :)
जारे के दिनों में तो छत की अहमियत और बढ़ जाती थी, सुबह जैसे ही धुप निकला की सभी छत पे मौजूद हो गए...बड़े बुजुर्ग अखबार पढ़ने में व्यस्त तो छोटे बच्चे खेलने में...सुबह का नाश्ता, चाय, यहाँ तक की दोपहर का खाना भी छत पे ही होता था....एक तरह से देखा जाए तो पहले दिल बहलाने का एक जरिया भी हुआ करता था छत..शाम को अगर दिल नहीं लग रहा तो छत का चक्कर मार के आ जाईये..मन बिलकुल फ्रेश हो जाता था..

जब इंजीनियरिंग पढ़ने के लिए मुझे पटना से बाहर आना पड़ा तो सोच रहा था की पता नहीं कैसा होस्टल मिलेगा..कैसे लोग होंगे इत्यादी..हमारा जो इंजीनियरिंग हॉस्टल था वो कॉलेज हॉस्टल ही था लेकिन कॉलेज से दूर...हॉस्टल जैसा कम और प्राइवेट होम जैसा ज्यादा लगता था..सुकून ये मिला की उस हॉस्टल में भी छत थी..जहाँ हम सारे दोस्तों ने कमाल का वक्त बिताया भी..पुरे इंजीनियरिंग में हमने ३ घर बदले..और खुशी की बात ये थी की  तीनो घरों में छत थी...हमारे एक करीबी मित्र हैं आशीष..वो मेरे साथ अक्सर छत पे घुमा करता था...एक और मित्र हैं संकल्प जी, हम तीनो कभी कभी रात रात भर छत पे बैठे गप्पे मारते रहते थे...ऐसा कुछ लगाव हो गया था छत से की हर रात खाना खाने के बाद एक घंटा अगर छत पे बिताता नहीं तो कुछ खाली खाली सा महसूस होता था...

बैंगलोर आये मुझे तीन साल हो गए लेकिन अब भी कभी कभी ये ख्याल आ ही जाता है, की अगर कोई छत होता तो कितना अच्छा वक्त बीतता.. ऐसे में बैंगलोर में एक छत मिल जाना एक बहुत अच्छी बात हुई..सन्डे का शाम तो अच्छा बीता ही, छत पे बिताई हर शाम अच्छी होती है लेकिन उससे भी अच्छा रहा सोमवार का दिन...सोमवार को ऑफिस नहीं गया था..तो अपने उन्ही सीनिअर के घर चला गया..वहां दोपहर का खाना बन ही रहा था की लाईट चली गयी.अब उनका घर ऐसा है की अगर अच्छी खासी रौशनी न हो तो अँधेरा अँधेरा सा दीखता है..तो हमने तय किया की चलो छत पे खाना खाया जाए..बैंगलोर का मौसम ने भी हमारा भरपूर साथ दिया..धुप तो थी ही नहीं, बारिश का सीन बन रहा था तो बादल कुछ छाये हुए थे...ऐसे में डर भी लग रहा था की अगर खाना खाते पानी आ गया तो क्या होगा..लेकिन हमने जब मूड बना लिया तो वो कहाँ चेंज होने वाला था....खाना ले के छत पे पहुँच गए..खाना खाने का आनंद तो आया ही, लेकिन सबसे ज्यादा आनंद आया खाना छत पे खाने का...खुली हवा में छत पे आराम से नीचे बैठ के खाना खाने का स्वाद बिलकुल अलग था...
  
अब समय के साथ साथ छत के भी अर्थ बदल रहे हैं, लेकिन हमें तो पुराना ज़माना का वो सुकून ही ज्यादा भाता था,जब घर के सभी लोग एक साथ छत पे शाम बिताया करते थे...
 
सच में छत पे बिताए हर पल अनमोल होते हैं :)


(तीनो चित्र सन्डे के शाम ली गयी थी )

10 comments:

  1. ओह, तो तुम भी सोमवार को दफ्तर नहीं गए थे.. मैं भी नहीं गया..

    ReplyDelete
  2. आजकल त छत कहीं देखने को नहीं मिलता है, छत के जगह छतरी (टाटा स्काई, डिश टीवी) देखाईदेता है , हम त पटना में भी एंजॉय करते हैं अऊर नोएडा में भी... हमरा लड़िकाई इयाद दिला दिए…हमहूँ कित कित अऊर एक्खट दुक्खट बहुत खेले हैं... लेकिन आज तुमरा संडे मंडे का चर्या सुनकर त गुरुजी का गाना इयाद आ गया, तुमको भी अगाना चाहिए थाः
    या गर्मियों की रात जो
    पुरवाइयाँ चलें
    ठण्डी सफेद चादरों पे
    जागे देर तक.
    तारों को देखते रहे
    छत पर पड़े हुए... दिल ढूँढता है, फिर वोही, फ़ुर्सत के रात दिन.

    ReplyDelete
  3. छत का किस्सा तुमने खूब सुनाया दोस्त! मुझे भी अपनी छत से बहुत लगाव था.. उसपर टहलते हुए किताबे पढना... कहानिया गुथना.. और नज़्मो को कहना.. एक एकान्त सा होता था और खुद से ढेर सारी बाते होती थी..
    बाद मे शायद उतने मन से मै कभी इसलिये भी नही पढ पाया क्यूकि कही छत नही मिली :) और अन्धेरे मे छत पर कैन्डिल लिट डिनर.. वो स्ट्रगल के दिन थे.. मुझे याद है हम तीन दोस्त थे.. खाने के नाम पर खिचडी बनायी थी लेकिन बगल वाली लडकियो के सामने स्टैन्डर्ड न डाउन हो इसलिये हम कहते रहते थे कि अबे मशरूम बडे अच्छे बनाये आज.. :) जब सब कुछ खा पीकर सोये थे तो हम तीनो एक ही गाना गा रहे थे..

    ना उम्र की सीमा हो, न जन्म का हो बन्धन
    जब प्यार करे कोई तो देखे केवल ...

    तीनो के मुह से तीन अलग शब्द निकले थे.. तन.. मन.. धन.. मैने ’मन’ ही बोला था ;)

    ReplyDelete
  4. aapne to ara ki yaad dila di...jab garmi ki raat me chat per sote aur taare dekhte dekhte kab need aa jati pata bhi nahi chalta...aksar raat me hum sare bhai bahan( kai baar to maa papa tai tau) sab mil kar ghanto antakshri khelte...us raat ke andhere me ek dusre ko darate bhi khub the...sab kuch yaad dila diya aapne...neem ke niche kitkit khelna,jade ki sunahri dopahr, exam ke dino me ghanto chat per tahl kar padhna, charo or faili ons ki bunde, barish me bhigna,chhat me patang udana aur katne per use pakadne ke daud lagana, kabbdi badmintan pakdam-pakdai sab khub khele chat per...ufff kitna likhu ab to aur jyada miss kar rhi hu i wish mai jaldi ja pau ara kafi din ho gye gye huye ab....

    ReplyDelete
  5. ek baat to batana hi bhool mera chat tisri manjil per hai so ek baar chcht aane se pahle humne uper chat per hi ek choti si jhopadi banane ki sochi taki wahan apne sare patang latai waigarah store kar sare...inte niche aangan me pade the so humne ek choti se tokari me lambi si rassi bandi aur niche se inte chat per laane shuru kar diye...jab kafi sare inte ikkathe ho gye fir humne ek sundar si jhopadi banayi wo bhi mitti se into ko jod kar...ye sari kuch aisi khubsurat yaade hai jo tazindgi hume muskan deti rahegi...ab to aaj aapne mujhe pura ara ke rang me rang diya saare din miss karugi apna ghar....

    ReplyDelete
  6. छत एक फायेदे अनेक :)

    ReplyDelete
  7. bro u kno i also miss my old home(patna)..ab to flat mein chhat nasib hin nahi hothi......i also miss my old chhat so much :)
    good post !

    ReplyDelete
  8. हमें भी बहुत कुछ याद आया अभिषेक जी :-)
    पहले हम जब राजेन्द्र नगर के घर में रहते थे तो वहां हम भी पूरी शाम छत पे बिताया करते थे.मेरी बहन स्मृति,आँचल और मैं..हम तीनो शाम में कॉलेज की गोसिप करते थे छत पे ;-)
    और न जाने कितने ऐसे पल थे :-))

    ReplyDelete
  9. वाह शुभम जी, आपने तो मस्त किस्सा सुनाया अपना :)

    ReplyDelete
  10. ये....क्या याद दिला दिया....छत पर बिताई कई शामें याद आ गयीं.

    ReplyDelete

आप सब का तहे दिल से शुक्रिया मेरे ब्लॉग पे आने के लिए और टिप्पणियां देने के लिए..कृपया जो कमी है मेरे इस ब्लॉग में मुझे बताएं..आपके सुझावों का इंतज़ार रहेगा...टिप्पणी देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद..शुक्रिया